View Point

महंत श्री रामगिरि बापू

”  वे लोग बड़े भाग्यशाली हैं, जिनको बापूजी जैसे महान सद्गुरु मिले हैं । कितनी भी आँधी आ जाय, पहाड़ टूट पड़ें, दरिया में से पानी बाहर आ जाय लेकिन बापूजी के प्रति लोगों की जो श्रद्धा है, उसको कोई कम नहीं कर सकता । ” — महंत श्री रामगिरि बापू, महानिर्वाणी अखाड़ा

Read More »

रामचैतन्य बापूजी

” बापूजी ने हमको बहुत प्यार दिया है, सभी संतों को प्यार देते हैं । जब भी हमारी जरूरत पड़ेगी, हम बापूजी के लिए खड़े हैं । ” — संत श्री रामचैतन्य बापूजी, महामंत्री, अखिल भारतीय साधु समाज

Read More »

पू. डॉ. जयंत आठवलेजी

” परम पूज्य आशारामजी बापू की जीवनगाथा ज्ञात होने पर कोई भी व्यक्ति जिसे भगवान में आस्था है, उनके चरणों में नतमस्तक होगा । बापूजी के संदर्भ में मनचाहा भाष्य करनेवालो ! क्या आपमें उनके समान सामाजिक, धार्मिक एवं राष्ट्रीय कार्य करने का साहस है ? पूज्य आशारामजी बापू एवं उनका सम्पूर्ण साधक परिवार सामाजिक सेवाकार्य करने में अग्रणी हैं ...

Read More »

श्री रमेश शिंदे

” मेडिकल रिपोर्ट में लिखा है कि ‘उस लड़की के बदन पर खरोंच भी नहीं है’ तो बाकी की तो बात ही नहीं बनती है । निर्दोष बापूजी को जमानत मिले । ” —  श्री रमेश शिंदे, राष्ट्रीय प्रवक्ता, हिन्दू जनजागृति समिति

Read More »

भागवताचार्या साध्वी सरस्वतीजी

” साजिश करके बापूजी को फँसाया जा रहा है । ईसाई मिशनरी साजिश इसलिए कर रहे हैं क्योंकि जब तक संत नहीं मिटेंगे, तब तक वे अपना धर्मांतरण का कार्य नहीं कर पायेंगे ।  ” — भागवताचार्या साध्वी सरस्वतीजी

Read More »

श्री नरेन्द्र गिरि महाराज

‘‘पूज्य बापूजी के खिलाफ षड्यंत्र किया गया है । गलत आरोप लगा के उनको प्रताड़ित किया जा रहा है ।’’ — श्री श्री १०८ श्री नरेन्द्र गिरि महाराज, अध्यक्ष, अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद

Read More »

बाबा हरपाल सिंहजी

‘‘पूज्य बापूजी सभीका हर तरह से भला ही सोचते हैं । यह बात सभी जानते हैं कि बापूजी के खिलाफ षड्यंत्र हो रहे हैं ।’’ — संत बाबा हरपाल सिंहजी प्रमुख, रतवाड़ा साहिब गुरुद्वारा

Read More »

संत कृपारामजी

  ” वर्तमान में पूज्य बापूजी जैसे संतों पर ही हमारी संस्कृति और देश टिका हुआ है । इसलिए बापूजी को फँसाने का षड्यंत्र रचा गया । बापूजी निर्दोष हैं । ” — संत कृपारामजी महाराज, जोधपुर

Read More »

स्वामी विश्वेश्वरानंदजी

  ” वर्तमान युग में सनातन धर्म की परम्परा को, सनातन धर्म की ध्वजा को जिन्होंने अपने कंधे पर उठा के चलने का संकल्प लिया है, वे हैं परम श्रद्धेय संत श्री आशारामजी बापू । ” —  महानिर्वाणी अखाड़ा के महामंडलेश्वर श्री स्वामी विश्वेश्वरानंद गिरिजी महाराज

Read More »