Author Archives: admin

भागवताचार्या साध्वी सरस्वतीजी

” साजिश करके बापूजी को फँसाया जा रहा है । ईसाई मिशनरी साजिश इसलिए कर रहे हैं क्योंकि जब तक संत नहीं मिटेंगे, तब तक वे अपना धर्मांतरण का कार्य नहीं कर पायेंगे ।  ” — भागवताचार्या साध्वी सरस्वतीजी

Read More »

श्री नरेन्द्र गिरि महाराज

‘‘पूज्य बापूजी के खिलाफ षड्यंत्र किया गया है । गलत आरोप लगा के उनको प्रताड़ित किया जा रहा है ।’’ — श्री श्री १०८ श्री नरेन्द्र गिरि महाराज, अध्यक्ष, अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद

Read More »

बाबा हरपाल सिंहजी

‘‘पूज्य बापूजी सभीका हर तरह से भला ही सोचते हैं । यह बात सभी जानते हैं कि बापूजी के खिलाफ षड्यंत्र हो रहे हैं ।’’ — संत बाबा हरपाल सिंहजी प्रमुख, रतवाड़ा साहिब गुरुद्वारा

Read More »

क्या युवाधन की सुरक्षा करना गुनाह है ?

  किसी भी देश का भविष्य उसकी युवा पीढ़ी पर निर्भर होता है किंतु उचित मार्गदर्शन के अभाव में वह गुमराह हो जाती है । वर्तमान में युवाओं में फैशनपरस्ती, अशुद्ध आहार-विहार के सेवन की प्रवृत्ति, कुसंग, अभद्रता, चलचित्र-प्रेम आदि बढ़ रहे हैं । इनसे दिनोंदिन उनका पतन होता जा रहा है । आज विश्व के कई विकसित देशों में ...

Read More »

संत कृपारामजी

  ” वर्तमान में पूज्य बापूजी जैसे संतों पर ही हमारी संस्कृति और देश टिका हुआ है । इसलिए बापूजी को फँसाने का षड्यंत्र रचा गया । बापूजी निर्दोष हैं । ” — संत कृपारामजी महाराज, जोधपुर

Read More »

स्वामी विश्वेश्वरानंदजी

  ” वर्तमान युग में सनातन धर्म की परम्परा को, सनातन धर्म की ध्वजा को जिन्होंने अपने कंधे पर उठा के चलने का संकल्प लिया है, वे हैं परम श्रद्धेय संत श्री आशारामजी बापू । ” —  महानिर्वाणी अखाड़ा के महामंडलेश्वर श्री स्वामी विश्वेश्वरानंद गिरिजी महाराज

Read More »

श्री देवेन्द्रानंद गिरिजी

  ‘‘अखिल भारतीय संत समिति के ११ लाख संत बापूजी के साथ हैं !’’ — महामंडलेश्वर श्री देवेन्द्रानंद गिरिजी, राष्ट्रीय महामंत्री, अखिल भारतीय संत समिति

Read More »

आचार्य बालकृष्ण जी

  ‘‘बापूजी के विरुद्ध षड्यंत्र है । समय आ गया है कि सनातन हिन्दू परम्परा से जुड़ी सभी संस्थाएँ, संगठन और साधु-महात्मा एकजुट हों और सुनियोजित ढंग से दुष्प्रचार की काट करें ।’’ —  आचार्य बालकृष्ण पतंजलि योगपीठ, हरिद्वार

Read More »

पंचानंद गिरिजी

  ‘‘शंकराचार्यजी की गिरफ्तारी हो या आशारामजी बापू की, नारायण साँर्इं की हो या और संतों की, यह एक षड्यंत्र है ।’’ — जगद्गुरु श्री पंचानंद गिरिजी, जूना अखाड़ा

Read More »