श्री अशोक सिंहलजी

ashoksinghal

‘‘बापूजी को जमानत मिलनी चाहिए’’

श्री अशोक सिंहलजी, विश्व हिन्दू परिषद के मुख्य संरक्षक पूर्व अंतर्राष्ट्रीय अध्यक्ष

संत आशारामजी बापू को फँसाया गया है । इस देश में हमारे संतों को बदनाम करने का बहुत बड़ा षड़्यंत्र चला है । हिन्दू धर्म, संस्कृति को नष्ट करने के लिए ये केवल हम पर केस ही नहीं चलाते हैं, अपितु गंदे-गंदे आरोप और वह भी कई महीनों तक लगाते रहते हैं ।

कानून में किसीको भी फँसाया जा सकता है

76 साल की उम्र में पूज्य बापूजी को गलत तरीके से फँसाकर प्रताड़ित किया जा रहा है । कांची के शंकराचार्यजी को भी प्रताड़ित किया गया था । कानून में किसीको भी फँसाया जा सकता है । आरोप किसी पर भी लग सकते हैं ।

मीडिया ट्रायल और ऊधम मचानेवाले एनजीओज् के पीछे कौन ?

हिन्दू धर्म व संस्कृति को नष्ट करने के लिए मीडिया ट्रायल पश्चिम का बड़ा भारी षड़्यंत्र है हमारे देश के भीतर ! हमारे यहाँ के बड़े-बड़े संतों के पास लाखों लोग आते हैं तो ये एनजीओज् ऊधम मचाने के लिए वहाँ खड़े हो जाते हैं । देश में विदेशी पैसों से लाखों एनजीओज् चलाये जा रहे हैं, जो इस देश की राजनीति को अपनी मुट्ठी में किये हैं ।

बापूजी निर्दोष हैं

बापूजी को माननेवाले बहुत बड़ी संख्या में हैं । मैं मानता हूँ कि जिनकी साधना, सच्चाई न हो वे इतना बड़ा एकत्रीकरण नहीं कर सकते । यह सारा कुछ (आरोप, केस आदि) बनावटी है । केस चल रहा है मगर 76 वर्ष की उम्र में बापूजी को बहुत कष्ट दिया गया है और इस प्रकार से उनके तथा उनके नाम से हिन्दू संतों और हिन्दू समाज के सिर पर कुल्हाड़ा मारा गया है । बापूजी निर्दोष हैं, बापूजी को जमानत मिलनी चाहिए ।

(संदर्भ : दैनिक भास्कर, राजस्थान पत्रिकासुदर्शन न्यूज, तेज न्यूज, न्यूज 24)

(संत श्री आशारामजी बापू आश्रम से प्रकाशित मासिक पत्रिका, ‘ऋषि प्रसाद’ सितम्बर 2015 से साभार)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*