पंचानंद गिरिजी

 

panchanand giriji

‘‘शंकराचार्यजी की गिरफ्तारी हो या आशारामजी बापू की, नारायण साँर्इं की हो या और संतों की, यह एक षड्यंत्र है ।’’

— जगद्गुरु श्री पंचानंद गिरिजी,

जूना अखाड़ा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*